Friday, 18 November 2011

Iss raat ki bhi ek subah hai..


इस रात को अब गुज़र जाने दो, 
सवेरा जल्द ही अपने रंग दिखलायेगा
इस ख्वाब को उजड़ जाने दो, 
अब हकीकत संग मज़ा कुछ और आएगा...

माथे की इस शिकन से दोस्ती हुई पुरानी, 
अब तो मुस्कराहट को अपना यार बनायेंगे
इन् तारों की छाँव में बहुत जी लिए,
अब तो सूरज के घर आने पर नाचे गायेंगे.... 

अँधेरे में गुमनाम ये ज़िन्दगी,
अब फिर नयी रौशनी की ओर जाती दिख रही है 
आज फिर नए रंगों की दूकान खुल चुकी है,
और खुशियों की डिबिया फिर डिस्काउंट में बिक रही है....

जाओ आज खरीद लाओ उस ख्वाहिश को,
जो कभी दूर से ही सुहानी लगती थी
इस रात को अब गुज़र जाने दो,
और ओढ़ लो फिरसे उस अरमानो वाली चादर को,
जो कभी किसी कोने में पड़ी पुरानी लगती थी.... 


Iss raat ko ab guzar jaane do,
Savera jald hi apne rang dikhlayega.
Iss khwaab ko ujad jaane do,
Ab haqeeqat sang mazaa kuch aur aayega...

Maathe ki iss shikan se dosti hui purani,
Ab toh mukurahat ko apna yaar banayenge.
Inn taaron ki chaanv mein bahut jee liye,
Ab toh suraj ke ghar aane par naache gayenge....

Andhere mein gumnaam ye zindagi,
Ab fir nayi roshni ki oor jaati dikh rahi hai.
Aaj fir naye rangon ki dukaan khul chuki hai,
Aur khushiyon ki dibiya fir discount mein bik rahi hai....

Jaao aaj khareed lao uss khwahish ko,
Jo kabhi duur se hi suhani lagti thi.
Iss raat ko ab guzar jaane do,
Aur odh lo firse uss armaano waali chadar ko,
Jo kabhi kisi kone mein padi purani lagti thi...

1 comment:

  1. It is so true that we have let go off the dreams to look into reality.. Wow! Beautiful poem.

    ReplyDelete