Monday, 18 February 2013

Ek Akeli Chappal...


एक अकेली चप्पल, 
मुझसे अपने घर का पता पूछती है, 
और मैं चुप चाप सा, 
उसे देखता जाता हूँ, 
खुद को इलाहाबाद स्टेशन के, 
उस प्लेटफार्म पर खड़ा पता हूँ, 
जहाँ वह एक अकेली चप्पल, 
मुझसे अपने घर का पता पूछती है...

पूछती है मुझसे उस पाँव का पता, 
जो उसे पहन नए जहान घूम आते थे, 
जो यादों के निशाँ पीछे कहीं छोड़ जाते थे, 
वह पाँव फिर कुछ निशाँ छोड़ गया है, 
खून के उस चप्पल पर, 
और वह एक अकेली चप्पल मुझसे पूछती है, 
की कौन मिटाएगा वह निशाँ ...

पूछती है मुझसे उसका पता, 
जो यूँ तो भगवान कहलाता है, 
पूछती है मुझसे फिर क्यों, 
वह खुद ही बेक़सूर इंसानों को निगल जाता है, 
मैं क्या जवाब दूँ उसे, 
मैं खुद इन्ही ख्यालों से घिरा हूँ, 
मैं क्या जवाब दूँ उसे, 
जो मैं खुद इन्ही सवालों के बीच मुंह झुकाए खड़ा हूँ ...

एक अकेली चप्पल, 
आज खून का संगम देख चुप चाप आंसू बहाती है, 
किसी की लाल जमुना से किसी और की लाल गंगा, 
मिली थी उस दिन, 
जिस दिन से पाँव की तलाश में, 
वह एक अकेली चप्पल इस अजनबी ठण्ड में कंपकंपाती है, 
और मुझ जैसे नादान मुसाफिरों से, 
उस एक पाँव का पता पूछे चली जाती है ...

एक अकेली चप्पल,
आज फिर उसी सवाल की आड़ में, 
दो आँसू और बहा जाती है ...

ek akeli chappal, 
mujhse apne ghar ka pata poochti hai,
aur main chup chaap sa,
use dekhta jaata hun, 
khud ko alahabad station ke, 
us platform par khada paata hun, 
jahaan wah ek akeli chappal, 
mujhse apne ghar ka pataa poochti hai...

Poochti hai mujhse uss paanv ka pataa,
jo use pehen naye jahaan ghoom aate the, 
jo yaadon ke nishaan peeche kahin chod jaate the,
vah paanv fir kuch nishaan chod gaya hai, 
khun ke uss chappal par, 
aur wah ek akeli chappal mujhse poochti hai, 
ki kaun mitayega wah nishaan 

poochti hai mujhse uska pata,
jo yun to bhagwaan kehlaata hai, 
poochti hai mujhse fir kyon, 
wah khud hi bekasoor insaanon ko nigal jaata hai,
main kya jawaab dun use,
main khud inhi khayaalon se ghira hun, 
main kya jawaab dun use,
jo main khud inhi sawaalon ke beech munh jhukaaye khada hun...

ek akeli chappal, 
aaj khoon ka sangam dekh chup chaap aansoo bahaati hai, 
kisi ki laal yamuna se kisi aur ki laal ganga, 
mili thi uss din, 
jis din se paanv ki talaash mein, 
wah ek akeli chappal iss ajnabi thand mein kanpkanpati hai,
aur mujh jaise nadaan musaafiron se, 
uss ek paanv ka pataa pooche chali jaati hai...

ek akeli chappal, '
aaj fir usi sawaal ki aad mein, 
do aansoo aur bahaa jaati hai...

4 comments:

  1. Very beautiful. It made me emotional and at same time it made me realize your potential.
    Good Job A, keep it up! :)

    ReplyDelete
  2. Very beautiful emotions...

    Loved reading !!!

    ReplyDelete
  3. Very beautifully you write and so deeply.

    ReplyDelete