Monday, 3 June 2013

Cooler Kab Aayega?

(scroll down for english script)

पंखा सुबह से घूम रहा है
पर हवा न जाने कहाँ गुम है,
दिल्ली की गर्मियों में,
आज दिल मेरा बड़ा ही गुमसुम है,
पसीने से मेरा बुरा हाल है,
सोते जागते मन में दौड़ता बस उसी का ख्याल है,
दौड़ता बस एक ही ख्याल है,
एक ही ख्याल है,
ख्याल है की ...

भाई, कमबख्त कूलर कब आएगा?
अपनी ठंडी हवाओं से मेरा तन-मन-यौवन को छू जाएगा,
मुझे फिर खूब मजा आएगा,
गुस्से से दुनिया को जला कर राख कर देने का
ख्याल फिर दिल न दिखायेगा,
खुशियों की सौगाद लायेगा,
पसीने से गीला गद्दा फिर सूख जायेगा,
मेरे कमरे में मौजूद इन मच्छरों की
दुनिया में कोहराम मचाएगा,
झन झन कर ठंडी लोरी मुझे सुनाएगा,
गर्मी में डर्मी कूल का एहसास दिलाएगा,
गद्दे पर एक बाल्टी पानी डाल कर
रोज़ रात सोना बंद हो जायेगा,
मनाली जाने का खर्च बच जायेगा,
आधी रात न मन मेरा घबराएगा,
चैन से सोना नसीब अब हो पायेगा,
पर यार, ये कमबख्त कूलर कब आएगा?

देखो, दिल मेरा गुमसुम था,
फ़ोन भी कहीं गुम था,
जो उठा कर देखा तो उसमे मिस कॉल मिली,
कूलर वाले का  नंबर था,
देख उसे दिल में एक नयी उमंग खिली,
आखिर कूलर वाला आ गया,
गर्मी के मातम में,
फिर खुशियों का माहौल छा गया ...

अब बस एक चिंता और है ...

कूलर में भरने के लिए पानी कब आएगा?

pankha subah se ghoom raha hai,
par hawaa na jaane kahan gum hai,
dilli ki garmiyon mein,
aaj dil mera bada hi gumsum hai,
paseene se mera bura haal hai,
sote jaagte mann mein daudta bas usi ka khayal hai,
daudta bas ek hi khayal hai,
ek hi khayal hai,
khayal hai ki ...

Bhai, kambakht cooler kab aayega?
Apni thandi hawaaon se mera tan-mann-yauwan choo jaayega,
mujhe fir khoob maza aayega,
gusse se duniya ko jalaa kar raakh kar dene ka
khayal fir dil na dikhayega,
khushiyon ki sugaad layega,
paseene se geela gadda fir sookh jaayega,
mere kamre mein maujood inn machcharon ki
duniya mein kohraam machayega,
jhann jhann kar thandi lori mujhe sunayega,
garmi mein dermi cool ka ehsaas dilayega,
gadde par ek baalti paani daal kar
roz raat sona band ho jayega,
manali jaane ka kharcha bach jaayega,
aadhi raat na mann mera ghabrayega,
chain se sona naseeb ab ho payega,
par yaar, ye kambakht cooler kab aayega?

Dekho, dil mera gumsum tha,
phone bhi kahin gum tha,
jo utha kar dekha toh usme miss call mili,
cooler waale ka number tha,
dekh use dil mein ek nayi umang khili,
aakhir cooler waala aa gaya,
garmi ke maatam mein,
fir khushiyon ka mahaul chaa gaya...

ab bas ek chinta aur hai...

cooler mein bharne ke liye paani kab aayega?




5 comments:

  1. This one spoke to the humidity in the air...brilliant narrative... keep churning, Abhi!

    ReplyDelete
  2. Dilli ki garmi...

    Jaldi le aao cooler. Brilliant write.

    ReplyDelete
  3. I feel you, Abhi =)

    Super.

    ReplyDelete
  4. cooler se zyada paani ki zarurat :P very nicely written, in a funny sad way.

    ReplyDelete