Wednesday, 3 April 2013

Gareebon ki Nostalgia



Scroll down for english transliteration

जब कुत्ते रोज़ रोज़ रोया करते थे,
चाँद तारे आँख मूँद सोया करते थे,
वह काली रातें भी अजीब थीं
जब बंजर ज़मीनों पर सपने हम बोया करते थे

टूटे हुए तारों को मांझे से बाँध
हम फिर हवा में उड़ाते थे,
पतंग खरीदने के पैसे नहीं थे,
तो ख़्वाबों की साइकिल को बस इध उधर मुड़ाते थे

पर उन सभी ख्वाबी साइकिलों की टक्कर,
किसी बड़ी गाडी से हुआ करती थी,
इन्ही बातों से अनजान मेरी नन्ही बहन,
उन फजूल ख़्वाबों के पूरा होने की दुआ करती थी

पर ख्वाब तो फिर ख्वाब होते हैं,
पूरे तो बस उन सवालों के जवाब होते हैं,
"बापू  आज खाने में क्या खायेंगे?"
"मेरा जूता खाले।"
कभी जूता, तो कभी बापू के पथरीले हाथ,
इन्ही को खा खा कर बचपन किसी तरह बीता जाता था,
फिर कभी कभी न जाने उन कच्चे रास्तों पर,
कहाँ से 1-2 रुपये का नोट पड़ा दिख जाता था,
तब खूब मज़े से शामें कटा करती थी,
3-4 लड्डुओं से भरी थैलिया,
10-12 बच्चों में बंटा करती थी

बस इन्ही छोटी खुशियों को समेटे,
टूटी हुई पटरी पर जंग लगी रेल हम चलाते थे,
और जो कभी कोई मुश्किल आ पड़ती,
तो उसे भी ख़ुशी का चोगा पहना खुद का मन बहलाते थे

बचपन के वह दिन थे माँ का पता नहीं,
बापू रोज़ रात शराब पीकर आता था
और ये दिल रोज़ कचरे में नए किले बना
हर शाम एक खुशहाल ज़िन्दगी जी जाता था

हर शाम एक खुशहाल ज़िन्दगी जी जाता था

jab kutte roz roz roya karte the,
chaand taare aankhein moond soya karte the,
wah kaali raatein bhi ajeeb thin,
jab banjar zameenon par sapne hum boya karte the

toote hue taaron ko maanjhe se baandh,
ham fir hawa mein udaate the,
patang khareedne ke paise nahin the,
toh khwaabon ki cycle ko bas idhar udhar mudaate the

par un sabhi khwaabi cyclon ki takkar,
kisi badi gaadi se hua karti thi,
inhi baaton se anjaan meri nanhi behen,
un fazool khwaabon ke poora hone ki dua karti thi

Par khwaab toh fir khwaab hote hain,
poore toh bas unn sawaalon ke jawaab hote hain,
"baapu aaj khane mein kya khayenge?"
"Mera joota khale"
Kabhi joota, toh kabhi baapu ke pathreele haath,
inhi ko kha kha kar bachpan kisi tarah beet jaata tha,
fir kabhi kabhi na jaane unn kachche raaston par,
kahan se 1-2 rs ka note pada dikh jaata tha,
tab khoob maje mein shaamein kata karti thin,
3-4 ladduon se bhari thailiya,
10-12 bachchon mein banta karti thin

bas inhi choti khushiyon ko samete,
tooti hui patri par jang lagi rail hum chalaate the,
aur jo kabhi koi mushkil aa padti,
toh usse bhi khushi ka choga pehla khud ka mann behlaate the

bachpan ke woh din the maa ka pataa nahin,
baapu roz raat sharaab peekar aata tha,
aur ye dil roz kachre ke naye kile bana,
har shaam ek khushhal zindagi jee jaata tha

har shaam ek khushhal zindagi jee jaata tha

2 comments:

  1. Loved the metaphors like "khawabon ki saikil"

    Beautiful.

    ReplyDelete