Sunday, 27 May 2012

Raftaar ke Banjaare/Gypsies of speed

(For those who can't read hindi, I tried to translate the poem in english. I hope I didn't make a mess out this translation job. Enjoy :) )

हर हवा के झोंके को
नम आँखों से सालम करते हैं वो, 
हर नयी बूँद को 
अपने इन ख़्वाबों के नाम करते हैं वो, 

हर नयी दिशा हर नए मुकाम को
अंजाम करते हैं जो 
न थकते न रुकते कभी, क़दमों को चलाते हुए
आराम करते हैं जो 

मोटरसाइकल पर बैठ छितिज छूने जाते 
रफ़्तार के बंजारों को देखा है मैंने, 
इन्द्रधनुष का दूसरा सिरा तलाशते
बेपरवाह आवारों को देखा है मैंने

हर फ़िक्र को पेट्रोल के धुंए में उड़ाते 
अनजाने रास्तो के मुसाफिरों को देखा है मैंने 
हर मंजिल पे पहुँच नयी मजिल को तलाशते, 
इन रास्तों को नया खुदा बनाते काफिरों को देखा है मैंने 

Saluting every gust of the wind, 
with their moist eyes
They immolate every tear drop, 
To these dreamy skies

Accomplishing one by one, 
every twist and every turn 
They might stop, they might relax
but their spirit never dies 

I have seen those Gypsies of speed, 
As they touch the new horizons with their hands
Those careless vagabonds,  
Searching for rainbows' other ends

I have seen those travelers of paths unknown, 
Leaving worries in the gasoline's smoke, defying all odds
Searching for a new destination at every moment, 
Those infidels, making these paths their new Gods 

1 comment:

  1. Lovely. Evokes a vivid image of gypsies on their way to nowhere.