Wednesday, 28 December 2011

तुम आओगे ना? (Tum aaoge na)



आज का दिन युँही कट जायेगा
कुछ तुम्हारी यादों के सहारे
कुछ इन सूखे आंसुओं के सहारे 

आज फिर तुम्हारी याद सहला जाएगी
थोड़ा इस दिल को
थोड़ा इस अकेलेपन को

आज फिर मैं मुस्कुरऊँगी
बिस्तर पर पड़ी उन सलवटों को देख कर
और उस पानी के ग्लास को देख कर, जिसपे अभी भी तुम्हारे होठों के निशाँ हैं 

आज रात एक सिहरन उठेगी,
जब तुम्हारी उँगलियों का एहसास फिर होगा,
मेरे इस अनछुए बदन पर

आज इन आँखों को फिर तलाश रहेगी
उस खोये प्यार की
जो संग तुम्हारे रोज़ आता है 

आज मैं फिर उड़ जाउंगी
एक पतंग की तरह
पर डोर सँभालने तुम आओगे ना 

आज फिर ये दूरी थोड़ा कसमसा जाएगी
तकिये पे जो कल रात के आंसू छुपे हैं
उनके संग घुल के, फिर थोड़ा तडपायेगी 

बोलो तुम आओगे ना,
वरना तुम्हारे बिन आज ये रूह
फिर एक अनजान मौत मर जाएगी 

तुम आओगे ना

Aaj din yunhi kat jayega, 
kuch tumhari yaadon ke sahare,
kuch inn sookhe aansuon ke sahare, 


Aaj fir tumhari yaad sehla jayegi, 
Thoda iss dil ko, 
thoda iss akelepan ko 


Aaj fir main muskuraungi, 
bistar par padi unn salwaton ko dekh kar, 
aur uss paani ke glass ko dekh kar, jis par abhi bhi tumhare hothon ke nishaan hai


Aaj raat ek sihran uthegi, 
jab tumhari ungliyon ka ehsaas fir hoga, 
mere iss anchue badan par


Aaj inn aankhon ko fir talaash rahegi, 
uss khoye pyaar ki, 
jo sang tumhare roz aata hai


Aaj main fir udd jaungi, 
ek patang ki tarah, 
par dor sambhaalne tum aaoge na


Aaj fir ye duuri thoda kasmasa jayegi, 
takiye pe jo kal raat ke aansu chupe hain, 
unke sang ghul ke, fir thoda tadpayegi


Bolo tum aaoge na, 
varna tumhare bin aaj ye ruh, 
fir ek anjaan maut mar jayegi


Tum aaoge na?


1 comment:

  1. Thank you so much for writing that in Hindi :)

    ReplyDelete